हक़ीक़त ना सही तुम…

हक़ीक़त ना सही तुम…

हक़ीक़त ना सही तुम 
ख़्वाब की तरह मिला करो, 
भटके हुए मुसाफिर को 
चांदनी रात की तरह मिला करो ।

hakkekat na sahi tum,
khwab ki tarah mila karo,
bhatke hue mushafir ko,
chandani raaat ki tarah mila karo|

Leave a Reply