साथ तुम्हारा मिला…

साथ तुम्हारा मिला…

Love shayari in hindi

          भंवर से निकलकर किनारा मिला है, 
जीने को फिर से एक सहारा मिला है, 
       बहुत कशमकश में थी ये ज़िंदगी मेरी, 
उस ज़िंदगी में अब साथ तुम्हारा मिला है। 

       Bhanvar se nikalkar kinara mila hai,
jeene ko fir se ek sahara mila hai,
    bahut kashmkash me thi ye zindagi meri,
us zindagi me ab sath tumhara mila hai |

 

Leave a Reply