यूँ तेरे जिक्र से…

यूँ तेरे जिक्र से…

               राह में संग चलूँ ये न गँवारा उसको, 
दूर रहकर वो करता है इशारे बहुत, 
          नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर, 
यूँ तेरे जिक्र से शेर सँवारे हैं बहुत।

           Raah me sang chalu n ganwara usko,
door rehkar vo karta hai isare bahut,
        naam tera kabhi aane na diya hotho par,
u tere zikra se sher sanware hai bahut |

Leave a Reply