मोहब्बत की चमक…

मोहब्बत की चमक…

      मेरी आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है,
फिर भी मेरे प्यार पर उसको शक आज भी है,
नाव में बैठ कर धोये थे उसने हाथ कभी,
पानी में उसकी मेहँदी की महक आज भी है।

Meri aankho me mohobbat ki chamak aaj bhi hai,
Fir bhi mere pyaar par usko shak aaj bhi hai,
Naav me baith kar dhoye the usne hath kabhi,
Pani me uski mehandi ki chamak aaj bhi hai |

Leave a Reply