मुलाकात हो तुझसे…

मुलाकात हो तुझसे…

तेरे हर ग़म को अपनी रूह में उतार लूँ, 
ज़िन्दगी अपनी तेरी चाहत में संवार लूँ, 
मुलाकात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी, 
सारी उम्र बस एक मुलाकात में गुजार लूँ।

tere har gam ko apni rooh me utaar loo,
zindagi apni teri chahat me sanwaar loo,
mulakat ho tujhse kuchh iss tarah meri,
saari umra bas ek mulakat me guzaar loo|

Leave a Reply