मिलती रहे मोहब्बत…

मिलती रहे मोहब्बत…

न भूख है मुझे न दौलत की प्यास बाकी है, 
मिलती रहे हर किसी से मोहब्बत काफी है।

na bhookh hai n mujhe daulat hi pyaas baaki hai,
milti rahe har kisi se mohobbat baaki hai|

 

Leave a Reply