बेइंतहा चाहने की बेबसी…

बेइंतहा चाहने की बेबसी…

love shaayri in hindi

बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,  
फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी।

bevakt bevajah besabab si berkhi teri,
fir bhi beintha tujhe chahne bebasi meri |

Leave a Reply