बहुत ज़ालिम हो तुम…

बहुत ज़ालिम हो तुम…

Love shayari in hindi

    बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो, 
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो

   bahut jaalim ho tum muhobbat ese karte ho,
jaise ghar ke pinzare me parinda paal rakha ho |

Leave a Reply