तुम्हारी अहमियत…

तुम्हारी अहमियत…

            मेरी आँखों में तुम अपनी परछाइयाँ देख लेना, 
फुरसत मिले तो दिल की वीरानियाँ देख लेना, 
      तुम नहीं जानती गर क्या है तुम्हारी अहमियत, 
जरा पलटकर तुम हमारी कहानियाँ देख लेना।

           Meri aankho me tum parchhaiya dekh lena,
fursat mile to dil ki veeraniya dekh lena,
            tum nahi janti gar kya hai tumhari ahimiyat,
jara palakar tum hamari kahaniya dekh lena |

Leave a Reply