आग चाहत की…

Amazing
5

Summary

     नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की, 
जलाकर क्यूँ बुझाते हो आग चाहत की, 
      सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे, 
हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।

            Nazar se kyu jalate ho aag chahat ki,
jalakar kyu bujhate ho aag chahat ki,
           sard rato me bhi tapan ka ehsaas rahe,
hava dekar badhate ho aag chahat ki |

आग चाहत की…

Love Shayari In Hindi

           नजर से क्यूँ जलाते हो आग चाहत की, 
जलाकर क्यूँ बुझाते हो आग चाहत की, 
      सर्द रातों में भी तपन का एहसास रहे, 
हवा देकर बढ़ाते हो आग चाहत की।

            Nazar se kyu jalate ho aag chahat ki,
jalakar kyu bujhate ho aag chahat ki,
           sard rato me bhi tapan ka ehsaas rahe,
hava dekar badhate ho aag chahat ki |

Leave a Reply