अपनी आज़ादी को हम…

अपनी आज़ादी को हम…

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं, 
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं।

apni ajaadi ko hum hargij mita sakte nahi,
sar kata sakte hai lekin sar jhuka sakte nahi|

Leave a Reply