अक्सर ठहर कर देखता…

अक्सर ठहर कर देखता…

         अक्सर ठहर कर देखता हूँ 
अपने पैरों के निशान को, 
       वो भी अधूरे लगते हैं… 
तेरे साथ के बिना।

      Aksar thahar kar dekhta hoo,
apne pairo ke nishaan ko,
     vo bhi adhoore lagte hai..
tere saath ke bina |

Leave a Reply